Makhanlal Chaturvedi ka Jivan Parichay

Makhanlal Chaturvedi Biography in Hindi

नमस्कार! दोस्तों आज के आर्टिकल में हम हिंदी के (Makhanlal Chaturvedi ka Jivan Parichay) प्रसिद्ध कवि माखनलाल चतुर्वेदी जी का जीवन परिचय आपके साथ शेयर करने जा रहे हैं जो की परीक्षा में अक्सर पूछा जाता है हमने उनके जीवन परिचय व उनकी रचनाओं को एक क्रमबद्ध तरीके से आपके लिए प्रस्तुत किया है जिससे कि आप उसे आसानी से याद करते हैं कर सकें

माखनलाल चतुर्वेदी का जीवन परिचय| Makhanlal Chaturvedi ka Jivan Parichay

1. नाम  माखनलाल चतुर्वेदी
2. जन्म – 4 अप्रैल सन 1889
3. पिता – पंडित श्री नंद लाल चतुर्वेदी
4. माता – श्रीमती सुंदरी बाईं
5. जन्म स्थान  बाबई जिला होशंगाबाद (मध्य प्रदेश)
6. रचनाएं –  हिम किरिटनी, हिम तरंगिणी, युग चरण, पुष्प की अभिलाषा, अमर राष्ट्र
7. भाषा का ज्ञान – संस्कृत, गुजराती, बांग्ला, हिंदी और अंग्रेजी
8. मासिक पत्रिका – प्रभा
9. उपाधि – डीलिट की उपाधि और पद्मभूषण से अलंकृत
10. मृत्यु – 30 जनवरी सन 1968 ईस्वी

परिचय

माखनलाल चतुर्वेदी जी का जन्म 4 अप्रैल सन 1889 ईस्वी में होशंगाबाद जिले के बाबई नामक ग्राम में हुआ था। इनके पिता का नाम पंडित श्री नंद लाल चतुर्वेदी और माता श्रीमती सुंदरी वाई था। आप की प्रारंभिक शिक्षा विद्यालय में ही हुई और प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने के उपरांत आपने घर पर ही संस्कृत, गुजराती, बांग्ला, हिंदी एवं अंग्रेजी भाषाओं का ज्ञान अर्जित कर लिया। इसके पश्चात आपने कुछ दिनों तक अध्यापन का कार्य भी किया। इसके बाद आपने ‘प्रभा’ नामक एक मासिक पत्रिका का संपादन किया। खंडवा से प्रकाशित होने वाली कर्मवीर नामक पत्रिका लगभग 30 वर्ष तक संपादन और प्रकाशन का कार्य किया। आपने 1913 में अध्यापक की नौकरी से त्यागपत्र दे दिया और पूरी तरह काव्य साधना, पत्रकारिता और राष्ट्रीय आंदोलन के लिए समर्पित हो गए। देश प्रेम के साथ-साथ आपकी कविताओं में प्रकृति और प्रेम का भी चित्रण मिलता है।

रचनाएं

हिंदी साहित्य जगत के इतिहास में माखनलाल चतुर्वेदी जी की रचनाएं एक अमूल्य धरोहर हैं। हिमकिरिटनी, हिमतरंगिणी, युग चरण, माता, वेणु लो गूंजे धारा, मरण ज्वार, पुष्प की अभिलाषा, अमर राष्ट्र आदि इनकी प्रमुख रचनाएं हैं कलम के सिपाही के रूप में अपने भारत की स्वाधीनता के आंदोलन में कई उल्लेखनीय कार्य किए। सन 1945 ईस्वी में आप हिंदी साहित्य सम्मेलन के सभापति निर्वाचित हुए। आपकी काव्य सेवाओं के लिए सागर विश्वविद्यालय ने आपको डी लिट की उपाधि से सम्मानित किया। तथा सन् 1963 में भारत सरकार द्वारा पद्मभूषण की उपाधि से अलंकृत हुए।

काव्य कृतियां

समर्पण,मरण ज्वार, माता, वेणु लो गूंजे धारा, बिजुरी काजल आज रही आदि माखनलाल चतुर्वेदी जी की प्रसिद्ध काव्य कृतियां हैं।

गधात्मक कृतियां

कृष्णार्जुन युद्ध, समय के पांव, साहित्य के देवता, आमिर इरादे और गरीब इरादे आदि आपके प्रसिद्ध गद्दात्मक कृतियां हैं।

सम्मान और उपाधि

माखनलाल चतुर्वेदी को 1943 ई० में देव पुरस्कार जो उस दौर का हिन्दी साहित्य का सबसे बड़ा पुरस्कार था
दिया गया हिंदी साहित्य अकादमी पुरस्कार जीतने वाले यह पहले व्यक्ति हैं

हिंदी साहित्य में अभूतपूर्व योगदान देने के कारण माखनलाल चतुर्वेदी को 1959 में सागर यूनिवर्सिटी से
डी.लिट् की उपाधि भी प्रदान की गयी

1963 में भारत सरकार द्वारा पद्मभूषण दिया गया ( हालाँकि 10 सितम्बर 1967 ई० को राष्ट्र भाषा
हिन्दी पर आघात करने वाले राजभाषा संविधान संशोधन विधेयक के विरोध में माखनलाल जी
ने यह अलंकरण लौटा दिया)

भोपाल का माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय इन्हीं के नाम पर स्थापित किया गया

मृत्यु 

30 जनवरी 1968 को राष्ट्र  ने साहित्य जगत के अनमोल नगीने को खो दिया, 79 वर्ष की आयु में इस महान साहित्यकार का निधन हो गया माखनलाल चतुर्वेदी जी एक राष्ट्र प्रेमी कवि हुआ करते थे. ये उन प्रमुख कवियों में से एक थे जिन्होंने अपना परम लक्ष्य राष्ट्र हित को माना है

Can Read Also:-

Advertisement

Leave a Comment

error: Content is protected !!