MP Gk

Mp Gk : मध्यप्रदेश की प्रमुख नदियां (Rivers of Madhya Pradesh)

मध्य प्रदेश की नदियाँ और उनके उदगम स्थल

नमस्कार ! दोस्तों इस पोस्ट में हमने मध्य प्रदेश GK के अंतर्गत एक महत्वपूर्ण टॉपिक (मध्यप्रदेश की प्रमुख नदियां) का विस्तार से अध्ययन करेंगे । मध्य प्रदेश

स्टेट के सभी परीक्षाओं में इस टॉपिक से प्रश्न अवश्य ही पूछे जाते हैं। इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको उन प्रश्नों का हल करने में बहुत ही सहायता मिलेगी। 

 भारत की प्रमुख 7 नदियों में से अनुपम नर्मदा का उद्गम स्थल अमरकंटक है । और यह मध्य प्रदेश के शहडोल जिले की पुष्पराजगढ़ तहसील में है।अमरकंटक भारत के पवित्र स्थलों में गिना जाता है नर्मदा और सोन नदियों का उद्गम स्थल आदि काल से ही ऋषि-मुनियों की तपोभूमि रहा है।नर्मदा का उद्गम यहां एक कुंड से और सोनभद्र के पर्वत शिखर से हैं मध्यप्रदेश की प्रमुख नदियां इस प्रकार है-

मध्यप्रदेश की प्रमुख नदियां (Major Rivers in MP)

 नदियों का प्रवाह

 चंबल, बेतवा, सोन, केन- उत्तर दिशा की ओर

 नर्मदा, ताप्ती- पूर्व दिशा की ओर

 बेनगंगा, वर्धा- दक्षिण दिशा की ओर

नर्मदा

 उद्गम- अनूपपुर जिले के अमरकंटक से

 समापन– खंभात की खाड़ी (अरब सागर)

 लंबाई- 1312 (कुल लंबाई) 1077( एमपी में)

 अन्य नाम-  रेवा, मेकलसूता, नामादोस 

 सहायक नदियां- नर्मदा नदी की 41 सहायक नदियां हैं जिनमें से प्रमुख है- 

 वरना, हिरन, हथिनी,ऊटी, शेर, शक्कर, तवा, बंजर, दूधी आदि। 

 बेसिन क्षेत्र- 93180 वर्ग किलोमीटर

 89.9%( एमपी में),6.5%(गुजरात में),2.7%(महाराष्ट्र में)

 परियोजना- इंदिरा सागर बांध परियोजना (पुनासा डैम),सरदार सरोवर बांध परियोजना

प्रमुख तथ्य 

  • यह मध्यप्रदेश की प्रमुख बड़ी तथा लंबी नदी है। 
  •  नर्मदा नदी भारत की पांचवीं सबसे बड़ी नदी है। 
  •  इस नदी को मध्य प्रदेश के लोक माता और जीवन रेखा कहते हैं। 
  •  नर्मदा को मध्य प्रदेश की अर्थव्यवस्था की मेरुरज्जु कहते हैं। 
  •  यह नदी डेल्टा नहीं बनाती बल्कि एशचूरी का निर्माण करती है।   
  •  नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण का गठन 1980 में हुआ था।  

चंबल

 उद्गम- इंदौर जिले के महू की जानापाव पहाड़ी से

 समापन- यमुना नदी (इटावा के पास)

लंबाई – 965 किलोमीटर

अन्य नाम- धर्मावती, चर्मावती ,भूगर्भा

 सहायक नदी- पार्वती, कालीसिंध, सिंध, शिप्रा

 परियोजना– 

  1.  गांधी सागर बांध (मंदसौर)- मध्य प्रदेश की प्रथम जल विद्युत परियोजना है
  2. जवाहर सागर/ कोटा बैराज (राजस्थान)
  3.  राणा प्रताप सागर परियोजना (राजस्थान)

यह नदी मध्य प्रदेश की सबसे उत्तरी सीमा बनाती है

 सोन नदी

 उद्गम– अनूपपुर के अमरकंटक से

 समापन- गंगा नदी (पटना जिले के पास दीनापुर बिहार में)

लंबाई- 780 किलोमीटर

 अन्य नाम- स्वर्ण नदी, हिरण्य बाहु 

 परियोजना- बाणसागर परियोजना शहडोल जिले में (एमपी+ बिहार+ यूपी)

 ताप्ती नदी

 उद्गम- बैतूल के मुलताई से

 समापन– अरब सागर में

 लंबाई –725 किलोमीटर

अन्य नाम- सूर्य पुत्री

 सहायक नदी- पूर्णा

  •  यह नदी भी डेल्टा नहीं बनाती तथा एशचुरी का निर्माण करती है। 
  •  सूरत शहर ताप्ती नदी के किनारे बसा हुआ है। 

बेतवा नदी

 उद्गम- रायसेन जिले कुमारा गांव से

 समापन- यमुना नदी (हमीरपुर के निकट उत्तर प्रदेश)

 लंबाई-540  किलोमीटर

 सहायक नदी– बीना,धसान

परियोजना- राजघाट बांध परियोजना, हलाली परियोजना( सम्राट अशोक सागर परियोजना)

  •  इसे मध्यप्रदेश की गंगा( प्रदूषण की दृष्टि से) भी कहा जाता है। 
  •  बुंदेलखंड की जीवन रेखा  के नाम से भी इस नदी को जाना जाता है। 
  • इसका पौराणिक नाम वेत्रबटी है। 

तवा नदी

 उद्गम- होशंगाबाद पचमढ़ी के पास महादेव पर्वत

 समापन– नर्मदा नदी

  •  नर्मदा एवं तवा नदी के संगम पर मांधार जलप्रपात है
  •  मध्य प्रदेश का सबसे लंबा बांध तवा नदी पर ही बनाया गया है जिसकी लंबाई 1322 मीटर( होशंगाबाद) है
  •  सबसे लंबा सड़क पुल तवा नदी पर है

शिप्रा नदी

 उद्गम- करारी बरड़ी पहाड़ी इंदौर से इंदौर से

 समापन- चंबल नदी (देवास के पास)

 लंबाई– 195 किलोमीटर

  •  इस नदी को मालवा की गंगा कहा जाता है
  •  इसका प्राचीन नाम अवंती है
  •  शिप्रा नदी के किनारे उज्जैन में सिंहस्थ का मेला लगता है

 माही नदी

  •  इस नदी का उद्गम स्थल विंध्याचल पर्वत से माना जाता है
  •  यह नदी कर्क रेखा को दो बार काटती है

 कालीसिंध

 उद्गम- देवास के बागली गांव से

 समापन- चंबल में जाकर मिल जाती है

 लंबाई- 150 किलोमीटर

 सिंध

 उद्गम- गुना की सिरोंज से

 समापन– चंबल नदी (इटावा)

 पार्वती

 उद्गम– सीहोर (आष्टा)

 समापन -चंबल में 

टोंस( तमसा)

 उद्गम– सतना जिले में कैमूर की पहाड़ियों से

 समापन– गंगा नदी

 वैनगंगा

 उद्गम- यह सिवनी के  पारस बड़ा पठार से

 समापन –वर्धा नदी (महाराष्ट्र)

 वर्धा तथा बेनगंगा का संगम प्राणहिता के नाम से जाना जाता है

 केन

 उद्गम– कटनी से

समापन- यमुना नदी में

मध्य प्रदेश की नदियों से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

 प्रश्न मध्य प्रदेश की नदियों की प्रकृति किस प्रकार की है?

 उत्तर– प्रायद्वीपीय

 प्रश्न मध्य प्रदेश में देश की कितनी नदियां बहती हैं?

 उत्तर- सर्वाधिक

 प्रश्न नर्मदा नदी का आप्रवाह क्षेत्र है?

उत्तर 93180वर्ग किलोमीटर

प्रश्न नर्मदा नदी मध्य प्रदेश में कितने किलोमीटर में बहती है?

 उत्तर1077 किलो मीटर

 प्रश्न नर्मदा नदी कौन सा जलप्रपात बनाती है?

 उत्तर कपिलधारा- दुग्ध धारा, मांधार तथा दर्दी, धुआंधार तथा सहस्त्रधारा

प्रश्न नर्मदा नदी की कुल कितनी सहायक नदियां हैं?

 उत्तर-41

 प्रश्न मध्यप्रदेश में किस स्थान से 3 किलोमीटर के अंदर दो प्रमुख नदियों का उद्गम है/

 उत्तर -अमरकंटक 

प्रश्न कौन सी नदी नर्मदा के समानांतर बहती है?

 उत्तर-ताप्ती

 प्रश्न मध्य प्रदेश की किस नदी का जल चूलिया झरने में गिरता है?

उत्तर चंबल 

इस आर्टिकल में हमने आपके साथ  मध्य प्रदेश की नदियों के बारे में विस्तृत जानकारी सांझा की है आशा है कि हमारे आर्टिकल (मध्यप्रदेश की प्रमुख नदियां) से आपको परीक्षा में नदियों से संबंधित प्रश्न को हल करने में काफी सहायता मिलेगी ऐसी नवीनतम जानकारी के लिए हमारी साइट पर  विजिट करते रहे आने वाले एग्जाम के लिए बहुत-बहुत शुभकामनाएं!!!!

ये भी जाने :-

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top
error: Content is protected !!