CTET Exam 2022: शिक्षक पात्रता परीक्षा में हमेशा पूछे जाते हैं ‘पावलव के शास्त्रीय अनुबंध सिद्धांत’ से जुड़े कुछ ऐसे प्रश्न!

CTET 2022 Pavlov Theory of Classical Conditioning: शिक्षक के रूप में अपना कैरियर बनाने वाले लाखों अभ्यर्थियों प्रतिवर्ष शिक्षक पात्रता परीक्षा में सम्मिलित होते हैं इस वर्ष CBSE यह द्वारा आयोजित की जाने वाली केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा 2022 का आयोजन दिसंबर माह में होना संभावित है। यदि आप भी इस परीक्षा में सम्मिलित होने वाले हैं, तो आपके लिए इस आर्टिकल में हम पावलव के शास्त्रीय अनुबंध सिद्धांत से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य और परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न शेयर कर रहे हैं। इन प्रश्नों के माध्यम से आप अपनी तैयारी को और बेहतर बना सकते हैं।

E.P (इवान) पावलाव

  • क्रिया करके प्राणी किसी लक्ष्य उद्दीपक को प्राप्त करता है उसे अनुबंधन कहा जाता है।
  • अनुबंधन के जनक : ई.पी. पावलाव
  • प्रयोग: कुत्ते
  • पुरस्कार: 1904 मे नोबेल पुरस्कार

पावलव का शास्त्रीय अनुबंधन सिद्धांत (Pavlov Theory of Classical Conditioning )

इस सिद्धांत के प्रतिपादक ‘इवान पी. पावलॉव’ नामक रूसी शारीरिक मनोवैज्ञानिक (Physiologist) थे। इसे शास्त्रीय अनुबन्धन का सिद्धांत/सम्बन्ध प्रत्यावर्तन / प्राचीन अनुबंधन सिद्धांत/ सहज अनुबंधन सिद्धांत/ संबद्ध प्रतिक्रिया सिद्धांत (Conditioned Response Theory) / C.R. Theory / परम्परा अनुबन्धन का सिद्धांत (Classical Conditioning Theory) / अनुबन्धन का सिद्धांत/प्रतिवादी अनुबंधन सिद्धांत / अनुकूलित-अनुक्रिया सिद्धांत या अनुबंधित अनुक्रिया सिद्धांत भी कहते हैं। इस सिद्धांत का प्रतिपादन 1904 में हुआ।

इस सिद्धांत के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति जीव कुछ जन्मजात प्राकृतिक प्रवृत्तियाँ (Tendencies), प्रतिक्रियाएँ (Reactions) या अनुक्रियाएँ (Responses) रखता है तथा ये प्रवृत्तियाँ, प्रतिक्रियाएँ या अनुक्रियाएँ किसी उपयुक्त प्राकृतिक उद्दीपक (Natural Stimulus) के उपस्थित होने पर प्रकट होती है। पावलॉव को अनुबंधन का जनक (Father of Conditioning) कहते हैं। पावलॉव ने कुत्ते की पेरोटिड ग्रंथि का ऑपरेशन करते हुए इस प्रयोग को सिद्ध किया। इस कार्य के कारण इन्हें 1904 में नोबल पुरस्कार भी मिला।

पावलाव शास्त्रीय अनुबंध सिद्धांत पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न

1. पावलॉव का जन्म कब हुआ था?

Ans- 26 सितंबर 1849

2. पावलॉव की मृत्यु कब हुई थी?

Ans- 27 फरवरी 1936

3. पावलॉव कौन थे?

Ans- एक शरीर शास्त्री थे

4. पावलॉव कहां के निवासी थे?

Ans- रूस

5. पावलॉव ने कौन सा सिद्धांत दिया था ?

Ans – शास्त्रीय अनुबंधन का सिद्धांत

6. पावलॉव का क्लासिकल अनुबंधन सिद्धांत का प्रतिपादन कब हुआ?

Ans – 1904 में

7. पावलॉव ने किस पर प्रयोग किया था?

Ans – कुत्ते पर

8. अनुबंधन का जनक कहा जाता है?

Ans – पावलॉव को

9. पावलॉव के प्रयोग में तटस्थ उद्दीपक है?

Ans- घंटी

10. पावलॉव के साथ शास्त्रीय अनुबंधन सिद्धांत के अनुसार घंटी तथा भोजन के मध्य ………… ही अनुबंधन कहलाता है

Ans- साहचर्य

11. 1904 में पाचन क्रिया पर किए शोध कार्य हेतु पावलॉव को कौन सा पुरस्कार मिला?

Ans- नोबेल पुरस्कार

12. पावलॉव ने कुत्ते की कौन सी ग्रंथि का ऑपरेशन करते हुए इस प्रयोग को सिद्ध किया?

Ans- पेरोटिड ग्रंथी

13. स्वाभाविक उद्दीपक है?

Ans- भोजन

14. स्वाभाविक अनुक्रिया है?

Ans- लार

15. अनुकूलित अनुक्रिया सिद्धांत अनुक्रिया सिद्धांत……..अनुक्रिया पर बल देता है –

Ans- प्रेरणा

Read More:-

CTET 2022: Hindi Pedagogy Expected Question and Answer Read Now!

CTET CDP MCQ on Adjustment: दिसंबर माह में आयोजित होने वाली सीटेट परीक्षा में पूछे जाएंगे ‘समायोजन’ से जुड़े 1 से 2 अंकों के सवाल अभी पढ़ें!

Leave a Comment