Kalidas Nibandh in Sanskrit for Class 10

Essay on Kalidas in Sanskrit

नमस्कार! अभ्यार्थियों इस आर्टिकल में हम महाकवि कालिदास का निबंध संस्कृत भाषा (Kalidas Nibandh in Sanskrit for Class 10) में आपके साथ शेयर करने जा रहे है क्योंकि कक्षा नौवीं और दसवीं की परीक्षा में  निबंध से संबंधित प्रश्न अवश्य ही पूछे जाते हैं और यदि आप इसका अच्छी तरह अध्ययन करते हैं तो परीक्षा में अच्छे अंक अर्जित कर सकते हैं हमारे साड़ी कल में हमने महाकवि कालिदास का निबंध आपके साथ शेयर किया जो कि इस प्रकार है-

  महाकवि कालिदास का निबंध संस्कृत में

(1) महाकवि: कालिदास: न केवल भारतस्‍य प्रत्‍युत विश्‍वस्‍य श्रेष्‍ठ: कवि: अस्ति।

(2) तेषु द्वे महाकाव्‍ये रधुवंशम कुमार रसम्‍भवज्‍च।

(3) महाकवि कालिदासस्‍य प्रतिभा सर्वतोमुखी अस्ति।

(4) महाकवि कालिदास त्रीणि नाटकानि च मालविकाग्नि विक्रमोर्वशीयम अभिज्ञानशाकुंतलम।

(5) तत्र कृत्रिमता क्‍लिष्‍टता च किंचित मात्रमपि नास्ति।

(6) महाकवि कालिदास गीतिकाव्‍यम च मेघदुत ऋतुसंहारम्।

(7) अयं महाकवि: संस्‍कृतसाहित्‍ये अद्वितीयं स्‍थानं धारयति।

(8) महाकवि कालिदास प्रतिभासील: कवि अस्ति।

(9) अय संस्‍कृत साहित्‍ये लोकोत्‍तर: कवि: इति न काअपि संदेह:।

(10) तस्‍य तचनासु प्रसादं माधुर्यज्‍च गुणयो: अपुर्व सप्पिश्रण विघते।

(11) उपमा कालिदासस्‍य इति उक्ति: तस्‍य विषये सुप्रसिद्धा अस्ति।

अभ्यार्थियों उपरोक्त आर्टिकल में हमने महाकवि कालिदास का निबंध (Kalidas Nibandh in Sanskrit for Class 10) आपके साथ शेयर किया है आशा है कि आप उसका ध्यान पूर्वक अध्ययन करेंगे और परीक्षा में आने वाले से संबंधित प्रश्नों को आसानी प्यार कर पाएंगे और परीक्षा में अच्छे अंक अर्जित कर सकेंगे कक्षा नौवीं और दसवीं में इस टॉपिक पर निबंध मुख्य रूप से पूछे जाते हैं और हमारी साइकल में हमने महाकवि कालिदास की 10 वाक्य बहुत ही आसान भाषा में आपके साथ शेयर किए हैं ताकि आप उसे आसानी से याद कर सकें

Can Read Many More Sanskrit Essay
Essay on Science in Sanskrit for Class 10                            Click Here

Diwali Essay in Sanskrit for Class 10                                     Click Here

Essay on Sadachar in Sanskrit for Class 10                        Click Here 

Essay on Sanskrit Language in Sanskrit                               Click Here

Advertisement

Leave a Comment

error: Content is protected !!