RRB Group Dsuccess stories

Railway Loco Pilot: महिलाओं के लिए मिसाल बनी रेलवे लोकों पायलट नीलम, जानें ट्रेन चलाने वाली इस महिला की दिलचस्प कहानी

Woman Railway Loco pilot Neelam: आज के आधुनिक युग मे भी कई लोगों के मन मे ये धारणा रहती है कि महिलाये कुछ नहीं कर सकती। वे सिर्फ घर ही संभाल सकती है, इस बजह से कई जगह ऐसी भी है जहा पर लड़कियों को उनकी रुचि का काम करने नहीं दिया जाता है। घर वाले अपनी बेटियों को ज्यादा अहमियत नहीं दी जाती है और ससुराल मे सिर्फ उनको घर का काम करने की जिम्मेदारी दे दी जाती है। लेकिन लोगों ये नहीं पता होता है कि लड़किया, लड़कों से कई अधिक बेहतर काम कर सकती।

बहुत सी महिलायें ऐसी है जो लोगों के मन की धारणा को गलत साबित करके लड़कों के काम को बेहतर तरीके के साथ करके अन्य लड़कियों के लिए एक प्रेरणा के रूप मे खरी उतर रही है। कुछ ऐसी ही कहानी है रेल्वे लोको पायलट के रूप मे कार्यरत नीलम की, इस लेख मे आपको नीलम की कुछ कहानी बताने वाले है कि कैसे वो अपने घर और नौकरी दोनों को स्पष्ट रूप से संभाल रही है। आइए जानते है नीलम की दिलचस्प कहानी जो हर महिला को सब कुछ कर सकने की प्रेरणा से भर देगी।

बहुत कम महिलायें ही करती है रेलवे लोकों पायलट की जॉब- नीलम

आपने अमूमन पुरुषों को ही रेल चलाते हुए देखा होगा लेकिन माथे पर लाल बिंदी, भरी हुई मांग और हाथ में लाल चूड़ी पहने हुए महिला लोकों पायलेट नीलम राथल रेल में सवार हजारों यात्रियों को सुरक्षित गंतव्य पहुंचाने की जिम्मेदारी उठाती है, मालगाड़ी और पैसेंजर रेल चलाने वाली उत्तर-पश्चिमी रेलवे की सीनियर असिस्टेंट लोको पायलट नीलम बताती है कि जब वे पेसीजर ट्रेन चलाती है तो कई लोग उन्हें देख कर हेरान रह जाते है कुछ लड़कीया उन्हे देखकर काफी खुश भी होती है कि एक महिला ट्रेन चल रही है।

नीलम राथल की दो छोटी बेटियाँ भी है

नीलम के बारे मे आपको बात कि वे राजस्थान कोटा की रहनी वाली है, नीलम राथल की दो छोटी बेटियाँ है। वे बताती है कि घर और नौकरी का संतुलन बनाना चुनौतीपूर्ण रहता है, फिर भी वे अपना संतुलन बखूबी तौर से निभाती है।

वे कहती है कि उनके इस काम को लेकर कई लोग ताने सुनाते है लेकिन वे लोगों की बातों पर ध्यान नहीं देती है और अपना काम पूरे मन से करती है। नीलम मानती है कि महिलाओ को हर क्षेत्र में आना चाहिए। क्योंकि महिला पुरुष से बेहतर काम कर सकती है। 

उत्तर पश्चिम रेलवे के सीपीआरओ कैप्टन शशिकिरण कहते हैं कि हमारा प्रयास सदैव रहता है कि नीलम राथल जैसी महिलाओं के माध्यम से नारी शक्ति के मुहीम को बढ़ावा मिल सके। महिलाये अपना कार्य बहुत ही धैर्य और लगाव से करती है जो कि पुरुषों से बेहतर रहता है।

News Source: BBC News Hindi

Read More:

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button