REET 2022: ‘बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र’ के ऐसे सवाल जो कि REET परीक्षा के लिए है, बेहद महत्वपूर्ण अभी पढ़ें

REET Child Development and Pedagogy Practice MCQ: राजस्थान के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती के लिए माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान के द्वारा REET परीक्षा का आयोजन किया जाता है। जिसमें सफल अभ्यर्थियों को राजस्थान के शासकीय विद्यालयों में शिक्षक बनने का मौका मिलता है। यदि आप भी शिक्षक बनने की चाह रखते हैं , तो रीट 2022 के लिए आवेदन की प्रक्रिया प्रारंभ हो चुकी है। वे अभ्यर्थी जो इस परीक्षा में शामिल होना चाहते हैं 18 मई से पहले रीट की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं I

यहां पर हम ‘बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र’ (REET Child Development and Pedagogy Practice MCQ) से संबंधित ऐसे सवाल लेकर आए हैं , जो की परीक्षा की दृष्टि से अत्यंत महत्वपूर्ण है। परीक्षा से पूर्व अभ्यर्थियों को इन प्रश्नों का अध्ययन एक बार अवश्य कर लेना चाहिए ।

राजस्थान रीट 2022 के लिए पढ़ें बाल विकास के यह प्रश्न-Child Development and Pedagogy Practice MCQ For REET Exam

Q. निम्नलिखित में से किस मनोसामाजिक गुण को विकास ‘परिश्रम बनाम हीनता’ की अवस्था में होता है?

(a) आशा

(b) सामर्थ्य

(c) प्रेम

(d) देखभाल

Ans:- (b)

Q. एरिएक्सन के मनोसामाजिक सिद्धांत के विषय असत्य कथन हैं?

(a) पहचान बनाम संभ्रांति का संकट बालक में किशोरावस्था में होता है।

(b) युवावस्था में द्वंद्व का उचित हल न निकलने की स्थिति मे बालक हीनभावना का शिकार होता है।

(c) जननात्मकता बनाम स्थिरता मनोसामाजिक विकास की सातवीं अवस्था है।

(d) मनोसामाजिक सिद्धांत की पाँचवी अवस्था की महत्वपूर्ण क्रिया सामाजिक संबंध स्थापित करता है।

Ans:- (b)

Q.बीजक्रोश की निरंतरता के सिद्धांत के प्रतिपादक थे? 

(a) बीजमैन

(b) फ्रांसिस गाल्टन

(c) लामार्क

(d) चार्ल्स डार्विन

Ans:- (a)

Q. बच्चों का यह मानना कि उन्हें बड़ों की हर बात माने चाहिए अन्यथा बड़ो द्वारा उन्हे दण्डित किया जाएगा। इस प्रकार का चिंतन कोहलबर्ग की किस अवस्था की प्रमुख विशेषता है?

(a) रुढि पूर्व चिंतन अवस्था (Pre Conventional)

(b) रूढिवादिता चिंतन अवस्था (Conventional) (c) ठोस सक्रियात्मक अवस्था (Concrete Operational)

(d) उत्तर रूढिगत चिंतन अवस्था (Post Conventional)

Ans:- (a)

Q.समस्या समाधान स्थिति के विषय में संज्ञानवादी कहते है?

(a) यह उद्दीपक – प्रत्युतर अनुबंध है। 

(b) यह पुनर्बलन पर आधारित है।

 (c) यह प्रयासव त्रुटि पर आधारित है। 

(d) यह चिंतन प्रक्रिया पर आधारित है।

Ans:- (d)

Q.बालक द्वारा प्रश्न का सफाई से तथा सही उत्तर लिखने पर अध्यापक प्रशंसा करता है। इससे बालक के सफाई से तथा सही उत्तर देने का व्यवहार बढ़ता है। यह कौनसे अधिगम सिद्धांत पर आधारित है

(a) प्रेक्षणात्मक अधिगम

(b) प्राचीन अनुबंधन

(c) क्रियाप्रसूत अनुबंधन

(d) अन्तर्दृष्टि सिद्धांत

Ans:- (c)

Q.प्राचीन अनुबंधन के निर्धारकों के संबंध में निम्नलिखित से कौनसा कथन सत्य है?

(a) सहकालिक अनुबंधन में अनुबंधित व अननुबंधित उद्दीपक एक साथ दिए जाते है।

(b) विलंबित अनुबंधन की प्रक्रिया में अनुबंधित उद्दीपक का प्रारंभ अननुबंधित उद्दीपक से पहले होता है।

(c) अवशेष अनुबंधन की प्रक्रिया में अनुबंधित उद्दीपक का प्रारंभ और अंत अननुबंधित उद्दीपक से पहले होता है।

(d) सभी कथन सत्य है।

Ans:- (d)

Q.बालक चलने से पहले खड़ा होना सीखता है, उससे पहले घुटनों के बल चलने से पहले बैठना सीखता है। बलक में नजर आने वाले यह विकासात्मक परिवर्तन कहते है?

(a) सिफेलोकॉडल

(b) प्रॉक्सिमॉडिस्टल

(c) लीनियर डेवलमेन्ट

(d) इनमें से कोई नहीं

Ans:- (a)

Q. शैशव अवस्था सीखने का आदर्श काल है?

(a) वाटसन

(b) क्रो एण्ड क्रो 

(c) वेलेन्टाइन

(d) स्टूंग

Ans:- (c)

Read More:-

REET 2022 Learning MCQ: रीट परीक्षा में पूछे जाएंगे ‘अधिगम’ के अंतर्गत 1 से 2 सवाल, यहां पढ़िए संभावित प्रश्न

REET 2022 Rajasthan GK: ‘राजस्थान जीके’ से जुड़े ऐसे सवाल जो REET परीक्षा में हमेशा पूछे जाते हैं 

रीट परीक्षा से जुड़ी सभी नवीनतम अपडेट तथा Notes प्राप्त करने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल के सदस्य जरूर बने जॉइन लिंक नीचे दी गई है.

Leave a Comment